September 25, 2021

Top1 india news

No. 1 News Portal of India

न्यायालय जिला मजिस्टेªट, श्रावस्ती। आदेश अन्तर्गत धारा 144 दण्ड प्रक्रिया संहिता

1 min read

ब्यूरो रिपोर्ट नफीस अहमद खान

कोरोना वायरस ( COVID-19    ) के प्रदेश में बढ़ते संक्रमण व जनपद में लोक स्वास्थ्य को उक्त से आसन्न खतरे व प्रदेश सरकार द्वारा निर्गत शासनादेश संख्या-1686/2020/सी0एक्स-3 दिनांक 30 जून, 2020 के दृष्टिगत् मेरा यह समाधान हो गया है कि जनपद श्रावस्ती में नए सिरे से दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत निषेधाज्ञा पारित किया जाना आवश्यक है।
अतः मैं योगानन्द पाण्डेय, अपर जिला मजिस्टेªट, श्रावस्ती दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत निम्नानुसार निषेधाज्ञा पारित करता हूँ:-
1. रोडवेज बसों, टैक्सी/मैक्सी, कैब सर्विस/थ्री व्हीलर आटो/ई-रिक्शा को इस प्रतिबन्ध के साथ चलने की अनुमति होगी कि निर्धारित सीट क्षमता पर ही संचालन किया जाएगा, स्टैण्डिंग की अनुमति नहीं होगी। संचालन के दौरान चालक/परिचालकों को मास्क, ग्लब्स का प्रयोग अनिवार्य होगा। यात्रियों को भी मास्क/फेस कवर पहनना अनिवार्य होगा। वाहनों में सेनिटाइजर पर्याप्त मात्रा में रखना अनिवार्य होगा। साथ ही बसों का नियमित सेनिटाइजेशन किया जाएगा तथा परिवहन निगम बस स्टेशनों पर आने वाले यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग अनिवार्य रूप से की जाएगी।
2. दो पहिया वाहनों को निर्धारित सीट क्षमता के अनुसार चलने की अनुमति होगी। दो पहिया वाहन पर यात्रा करने वाले व्यक्तियों को हेलमेट, मास्क/फेसकवर पहनना अनिवार्य होगा।
3. केवल आवश्यक गतिविधियों को छोड़कर रात्रि 10 बजे से प्रातः 05 बजे तक किसी भी व्यक्ति, वाहन का आवागमन निषिद्ध रहेगा।
4. जनपद में जो भी दुकानें खुलेंगी अथवा जहां भी क्रय विक्रय होगा, वहां समस्त दुकानदारों/विके्रताओं को फेसकवर/मास्क, ग्लब्ज का इस्तेमाल करना होगा एवं दुकान में सेनीटाइजर की व्यवस्था करनी होगी। किसी भी खरीदार को यदि उसने मास्क नहीं पहना है तो उसे बिक्री नहीं की जाएगी। सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करना होगा।
5. सुपरमार्केट आदि खोलने की अनुमति होगी लेकिन अन्य दुकानों के अनुसार उन पर भी सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, ग्लब्ज एवं सेनीटाइजेशन की शर्तें यथावत् लागू रहेंगी।
6. बाजार में दुकानों (फल, सब्जी, दूध, औषधि, बीज, उर्वरक, कीटनाशी को छोड़कर) की बन्दी व खोले जाने के सम्बन्ध में धारा-144 के अन्तर्गत् उप जिलाधिकारी, भिनगा द्वारा निर्गत आदेश दिनांक 20-3-2020, उप जिलाधिकारी, इकौना का आदेश दिनांक 21-3-2020 तथा उप जिलाधिकारी, जमुनहा का आदेश दिनांक 22-3-2020 में निहित रोस्टर प्रभावी रहेगा अर्थात एक दिन बायें व दूसरे दिन दायें तरफ की दुकानें बारी-बारी से खुलंेगी। बाजार हेतु समय प्रातः 09 बजे से रात्रि 09 बजे तक निर्धारित किया जाता है।
7. शहरी क्षेत्र में कोई भी साप्ताहिक मण्डी नहीं लगेगी।
8. रेस्टोरेंट/दुकानों में बैठकर खाना प्र्रतिबन्धित है। रेस्टारेंट आदि में केवल होम डिलेवरी ही अनुमन्य है व मिठाई की दुकान को मात्र विक्रय का कार्य अनुमन्य है।
9. बाहर के जनपदों या राज्यों से आ रहे व्यक्तियों (प्रवासी कामगारों से इतर) को निकटस्थ स्वास्थ्य इकाई (सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अथवा संयुक्त जिला चिकित्सालय, श्रावस्ती) पर व बाहर के जनपदों या राज्यों से आ रहे प्रवासी कामगारों को तहसील स्तरीय स्क्रीनिंग सेन्टर पर स्वयं को स्क्रीन कराना होगा। स्क्रीनिंग के उपरान्त होम क्वारंेटाइन का परामर्श होने पर क्वारेंटाइन अवधि में घर से बाहर विचरण करना पूर्णतया प्रतिबन्धित रहेगा। उक्त अवधि में उनके परिवार के मात्र एक चिन्हित सदस्य, जिनका नाम निगरानी समिति को उपलब्ध कराया गया हो, को ही मास्क पहनकर आवश्यक वस्तुओं की खरीद-फरोख्त के लिए घर से बाहर जाना अनुमन्य होगा।
10. सभी प्रकार की औद्योगिक गतिविधियों को इस प्रतिबन्ध के साथ अनुमति होगी कि थर्मल स्कैनिंग, सेनेटाइजेशन, फेस मास्क व फेस कवर के प्रयोग व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा एवं औद्योगिक गतिविधियांे के लिए बसों के इस्तेमाल पर भी उपरोक्त सावधानी बरती जाएगी। उद्योगों में रात्रि शिफ्ट की अनुमति भी इन्ही शर्तों के साथ होगी, किन्तु रात्रि शिफ्ट हेतु स्टाफ के लिए सुरक्षित परिवहन का साधन सम्बन्धित औद्योगिक इकाई द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा।
11. बारात घर इस प्रतिबन्ध के साथ खोलने की अनुमति है कि शादी के लिए सम्बन्धित उप जिला मजिस्ट्रेट से पूर्व अनुमति लेना आवश्यक होगा। इसमें 50 लोगों से ज्यादा की अनुमति नहीं होगी। शादी/बारात घर पर शस्त्र ले जाना पूर्णतया प्रतिबन्धित रहेगा। इसका उल्लंघन करने पर बैधानिक कार्यवाही की जाएगी।
12. शादी-बिवाह व अन्य मांगलिक/सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बाहर से आने वाले व्यक्तियों को जिला चिकित्सालय में कोरोना जांच हेतु स्थापित ट्रूनाट मशीन (Truenot½    ) से जांच कराने के बाद ही कार्यक्रमों में शामिल होने की अनुमति होगी।
13. सैलून/ब्यूटी पार्लर की दुकानों को खोलने की अनुमति इस प्रतिबन्ध के साथ है कि सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन किया जाए तथा प्रवेश द्वार पर सेनीटाइजेशन की व्यवस्था रहे। इसमें बाल काटने इत्यादि कार्य करने वाले स्टाफ द्वारा कार्य करने के दौरान फेस/शील्ड तथा ग्लब्ज पहनना अनिवार्य होगा। अन्य स्टाफ द्वारा भी फेस मास्क, फेस कवर, ग्लब्स का प्रयोग किया जाएगा। यदि कपड़े का इस्तेमाल होता है तो एक बार ही प्रयोग हो अथवा डिस्पोजेबल कपड़ा/सामग्री का प्रयोग किया जाय।
14. 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति सह-रूग्णता ( comorbidity    ) अर्थात एक से अधिक बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति, गर्भवती स्त्रियां और 10 वर्ष से आयु के नीचे के बच्चे घरों के अन्दर ही रहंगेे, सिवाय ऐसी परिस्थितियों में, जिनमें स्वास्थ्य सम्बन्धी आवश्यकताओं हेतु बाहर निकलना पड़े।
15. समस्त स्कूल, कालेज, शैक्षिक प्रशिक्षण कोचिंग संस्थान आदि बन्द रहेंगे। यद्यपि आॅनलाइन/दूरस्थ शिक्षा हेतु अनुमति पूर्व की भाॅंति जारी रहेगी। केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार के प्रशिक्षण संस्थान 15 जुलाई, 2020 से कार्य करना आरम्भ करेंगे जिनके लिए कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) द्वारा स्टैण्डर्ड आपरेटिंग प्रोसीजर  SOP    ) पृथक से जारी की जाएगी।
16. समस्त सिनेमा हाल, शापिंग, माल, जिम, तरणताल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार एवं सभागार, असेम्बली हाल, और इस प्रकार के अन्य स्थान बन्द रहेंगे।
17. समस्त सामाजिक, राजनैतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षिक, सांस्कृतिक, धार्मिक जुलूस व अन्य सामूहिक गतिविधियां प्रतिबन्धित रहंेगे।
18. नर्सिंग होम एवं प्राइवेट अस्पताल को इमरजंेसी एवं आवश्यक आपरेशन करने हेतु स्वास्थ्य विभाग की अनुमति व समस्त सुरक्षा उपकरण एवं प्रशिक्षण के उपरान्त ही खुलना अनुमन्य होगा।
19. आबकारी दुकानें प्रातः 10 बजे से 09 बजे खोलने की अनुमति इस प्रतिबन्ध के साथ दी जाती है कि बिक्री के समय सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से अनुपालन किया जाएगा।
धार्मिक स्थलों के सम्बन्ध में प्रतिबन्ध (धर्म गुरू/धर्म स्थल प्रशासन द्वारा की जाने वाली कार्यवाही)ः-

1. प्रत्येक धर्म स्थल के अन्दर एक बार में एक स्थान पर 05 से अधिक श्रद्धालु न हो।
2. प्रवेश द्वार पर हाथों को कीटाणु रहित करने हेतु एल्कोहल युक्त सैनिटाइजर का प्रयोग किया जाए एवं इन्फ्रारेड थर्मामीटर की भी व्यवस्था यथासम्भव की जाए।
3. जिन व्यक्तियों मे कोई लक्षण प्रदर्शित नही होगा, केवल उन्हें ही परिसर मंे प्रवेश की अनुमति होगी।
4. सभी प्रवेश करने वाले व्यक्तियों को फेस कवर/मास्क का प्रयोग करना अनिवार्य होगा।
5. कोविड-19 महामारी के सम्बन्ध में रोकथाम ( Precaution½    ) सम्बन्धी उपायों के रूप में जनजागरूकता के व्यापक प्रचार प्रसार हेतु परिसर में पोस्टर/स्टैण्डीज का प्रयोग प्रमुखता से करना होगा।
6. जहां तक सम्भव हो, आने वाले व्यक्तियों को विभिन्न समूहों में विभाजित करते हुए परिसर में प्रवेश करने की व्यवस्था की जाए, जिससे कि अनावश्यक भीड़-भाड़ न हो और संक्रमण का प्रसार न होने पाए। प्रयास हो कि एक स्थान पर एक समय में 05 से अधिक व्यक्ति एकत्रित न हो।
7. जूते/चप्पलों को अपने वाहन इत्यादि में उतार कर रखना अपेक्षित होगा। यदि आवश्यक हो तो इन्हें प्रत्येक व्यक्ति/परिवार द्वारा स्वयं ही अलग-अलग खांचो/ब्लाक में रखना होगा।
8. परिसरों के बाहर पार्किंग स्थलों पर भीड़ प्रबन्धन करते समय सोशल-डिस्टेंसिंग का कड़ाई से अनुपालन करना होगा।
9. पब्लिक एडेªस सिस्टम/माइक से सभी व्यक्तियों/आगन्तुकांे को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के बारे में जागरूक किया जाए।
10. परिसर के बाहर स्थित किसी भी प्रकार की दुकानों, स्टाल, कैफेटेरिया इत्यादि पर भी पूरे समय सोशल-डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से अनुपालन करना होगा।
11. सोशल डिस्टेंसिंग की सुनिश्चित करने हेतु परिसरों मंे व्यक्तियों के लाइन में खड़े होने के लिए स्पष्ट दृश्य निशान/चिन्ह अंकित कर दिए जायें।
12. प्रवेश एवं निकास की यथासम्भव अलग-अलग व्यवस्था की जाए।
13. लाइनों में सभी व्यक्ति एक दूसरे से कम से कम 6 फिट (2 गज) की शारीरिक दूरी पर रहेंगे।
14. बैठने के स्थानों को भी सोशल डिस्टेंसिंग के अनुसार व्यवस्थित किया जाए।
15. वेन्टिलेशन/एयर कन्डीशनों आदि के साधनों के प्रयोग के समय तापमान 24-30 डिग्री के मध्य होना चाहिए, आर्द्रता की सीमा 40 से 70 प्रतिशत् के मध्य होनी चाहिए। क्रास वेन्टिेलेशन का प्रबन्धन इस प्रकार से होना चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा ताजी हवा (Fresh Air     ।पत) अन्दर आ सके।
16. प्रतिरूप/मूर्तियों/पवित्र ग्रन्थों आदि को स्पर्श करने की अनुमति नहीं होगी।
17. सभाएं/मण्डली निषिद्ध रहेंगी।
18. संक्रमण फैलने के खतरे के दृष्टिगत् रिकार्ड किए हुए भक्ति संगीत/गाने बनाए जा सकते हैं, किन्तु समूह में इकट्ठे होकर गायन की अनुमति नही होगी।
19. प्रार्थना सभाओं हेतु एक ही मैट/दरी के प्रयोग से बचा जाए। श्रद्धालुओं को अपने लिए अलग मैट/दरी/चादर आदि लानी चाहिए, जिसे वह अपने साथ वापस भी ले जा सकते हों।
20. धार्मिक स्थल के अन्दर किसी प्रकार के प्रसाद वितरण अथवा पवित्र जल के छिड़काव आदि की अनुमति नही होगी। एक दूसरे को बधाई देते समय शारीरिक सम्पर्क से बचना होगा। श्रद्धालु एवं पुजारी समेत कोई भी किसी को किसी रूप में स्पर्श न करें।
21. लंगर/सामुदायिक रसोई ( Community Kitchen    )/अन्न दान आदि हेतु भोजन तैयार/वितरित करते समय शारीरिक दूरी के मानकों का अनुपालन करना होगा।
22. परिसर के भीतर शौचालयों, हाथ पैर धोने के स्थानों पर स्वच्छता हेतु विशेष उपाय करनें होंगे।
23. प्रबन्धन द्वारा धार्मिक स्थलों की लगातार सफाई और कीटाणु रहित करने के उपाय करने होंगे।
24. परिसर के फर्श को विशेष रूप से कई बार साफ करना होगा।
25. आगन्तुक अपने फेस-कवर/मास्क/ग्लव्स आदि को सार्वजनिक स्थानों पर नही छोंडेंगे, यदि कही कोई ऐसी सामग्री रहती है, तो उनका उचित निपटान ( Disposal) सुनिश्चित करना होगा।
26. परिसर के अन्दर संदिग्ध/पुष्ट केस के मामले मेंः-
A) बीमार व्यक्ति को ऐसे स्थान पर रखा जाए जिससे कि वह अन्य व्यक्तियों से बिल्कुल अलग ( isolate    ) हो जाए।
(B) डाक्टर द्वारा उसकी जांच/परीक्षण होने तक उसे मास्क/फेस कवर दिया जाए।
(C) तुरन्त निकटतम अस्पताल/क्लीनिक अथवा जिला स्वास्थ्य हेल्प लाइन नं0-18001805145 को सूचित किया जाए।
(D) नामित स्वास्थ्य प्राधिकारी ( District RRT/Treating Physician    ) द्वारा मरीज और उसके सम्पर्कों आदि के सम्बन्ध में संक्रमण के जोखिम का मूल्याकंन किया जाएगा, तद्नुसार कार्यवाही की जाएगी।
(E) यदि व्यक्ति पाॅजिटिव पाया जाए तो परिसर को पूर्ण रूप से कीटाणु-रहित किया जाए।

शापिंग माल्स के सम्बन्ध मेंः-
1. समस्त स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगातार चालू हालत में रहने चाहिए।
2. प्रवेश द्वार पर हाथोें को कीटाणु रहित करने हेतु एल्कोहल युक्त सैनेटाइजर का प्रयोग किया जाए एवं इन्फ्रारेड थर्मामीटर की भी व्यवस्था यथासम्भव की जाए।
3. जिन व्यक्तियों में कोई लक्षण प्रदर्शित नही होगा, केवल उन्हें ही परिसर में प्रवेश की अनुमति होगी।
4. फेस-कवर/मास्क पहनने वाले कर्मियों/ग्राहकों/आगन्तुकों को ही प्रवेश करने की अनुमति होगी एवं माल, होटल एवं रेस्टारेंट के अन्दर रहने के दौरान पूरे समय फेस-कवर/मास्क पहने रहना होगा।
5. कोविड-19 महामारी के सम्बन्ध में पूर्वोपायों को माल, होटल एवं रेस्टोरेंट के अन्दर एवं बाहरी परिसर में पोस्टर/स्टैण्डीज/एवी का प्रयोग करते हुए प्रमुखता से करना होगा।
6. जहां तक सम्भव हो, आने वाले ग्राहकों को समूहों में बांटते हुए (Staggering of visitors    ) माल, होटल एवं रेस्टोरेंट में प्रवेश करने की व्यवस्था की जाए, जिससे कि एक ही स्थान/प्रवेश द्वार पर अनावश्यक भीड़-भाड़ न हो और संक्रमण का प्रसार न होने पाए।
7. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट प्रबन्धन द्वारा सोशल-डिस्टेंसिंग के मानकों को सुनिश्चित करने हेतु पर्याप्त स्टाफ तैनात किया जाएगा।
8. ऐसे सभी कर्मचारी जो कि संक्रमण के प्रति ज्यादा संवेदनशील ( Vulnerable    ) हो सकते हैं, जैसे वृद्ध एवं गर्भवती कर्मी और ऐसे कर्मी जो कि निरन्तर चिकित्सीय पर्यवेक्षण ( underlying medical condition    ) में हो जैसे दमा, मधुमेह, हृदय रोग, कैन्सर अथवा किडनी रोग वाले मरीजों को ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है, उन्हे यथासम्भव किसी फ्रन्ट-लाइन कार्यों (अर्थात जिनमें उनके, अन्य व्यक्तियों/अतिथियों आदि के साथ सम्पर्क में आने की सम्भावना हो) में न लगाया जाए। माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट प्रबन्धन द्वारा आई0टी0 से सम्बन्धित कार्यों हेतु यथासम्भव घर से कार्य करने  work from home     की सुविधा दी जाए।
9. माॅल, होटल, रेस्टोरेन्ट के अन्दर एवं बाहरी परिसरों जैसे पार्किंग स्थल आदि पर भीड़ प्रबन्धन करते समय सोशल-डिस्टेंन्सिंग का कड़ाई से अनुपालन किया जाए।
10. वैले-पार्किंग, यदि उपलब्ध हो, तो इस हेतु स्टाफ को फेस कवर/मास्क, ग्लव्स आदि के साथ परिचालन ( operational    )  करने की व्यवस्था कर लेनी चाहिए। कार/वाहन आदि के स्टियरिंग, दरवाजों के हैण्डिल, चाबी आदि को समुचित प्रकार से कीटाणु-रहित (  disinfected       ) कर लिया जाए।
11. माल एवं होटल परिसर के अन्दर स्थित किसी भी प्रकार की दुकानों, स्टाल, कैफेटेरिया इत्यादि पर भी पूरे समय सोशल-डिस्टेन्सिंग के मानकों का कड़ाई से अनुपालन करना होगा।
12. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट के अन्दर एवं प्रवेश हेतु लाइनों में पर्याप्त शारीरिक-दूरी बनाये रखने के साथ-साथ सम्पूर्ण परिसर में सोशल-डिस्टेन्सिंग का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।
13. आगन्तुकों/स्टाफ एवं सामान/वस्तुओं की आपूर्ति हेतु प्रवेश एवं निकास की यथासम्भव अलग-अलग व्यवस्था की जाए।
14. होम-डिलेवरी करने से पूर्व डिलेवरी स्टाफ की माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट प्रबन्धन द्वारा थर्मल-स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जायेगी।
15. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट में वस्तुओं/सामानों आदि की पूर्ति करते समय आवश्यक सावधानियां बरती जाए। इस हेतु सोशल-डिस्टेन्सिंग के सन्दर्भ में लाइन आदि की व्यवस्था/निःसंक्रमण ( disinfection      हेतु आवश्यक व्यवस्थाएं की जाए।
16. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट के अन्दर प्रवेश हेतु लाइनों में यथासम्भव एक-दूसरे से कम से कम 06 फीट (2 गज) की शारीरिक दूरी बनाये रखना आवश्यक होगा।
17. माॅल एवं होटल के अन्दर स्थित दुकानों में शारीरिक दूरी के मानकों का अनुपालन करते हुए ग्राहकों की संख्या कम-से-कम रखी जाएगी।
18. बैठने सम्बन्धी व्यवस्थाओं में पर्याप्त सोशल-डिस्टेन्सिंग का अनुपालन किया जायेगा।
19. स्व-चालित सीढ़ियों( escalators    ) के प्रयोग करते समय भी सीढ़ियों पर पर्याप्त सोशल-डिस्टेन्सिंग का अनुपालन किया जाएगा।
20. सीढ़ियों पर एकान्तर (lternate    ) क्रम से (अर्थात एक सीढ़ी छोडते हुए अगली सीढ़ी पर केवल एक व्यक्ति) चलने हेतु व्यवस्था की जाए।
21. एयर-कन्डीशनरों/वेन्टिलेशन के साधनों के प्रयोग के समय तापमान 24-30 डिग्री के मध्य एवं आर्द्रता की सीमा 40 से 70 प्रतिशत के मध्य होनी चाहिए। क्रास-वेन्टिलेशन का प्रबन्ध इस प्रकार से होना चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा ताजी हवा ( Fresh Air    ) अन्दर आ सके।
22. ऐसे कार्यक्रम/इवेन्ट आदि जिसमें भीड़ इकठ्ठा होने की सम्भावना हो, निषिद्ध रहेगें।
23. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट परिसर के अन्दर निरन्तर एवं प्रभावी साफ-सफाई की व्यवस्था होनी चाहिए। पेय जल/वाश-बेसिन एरिया एवं शौचालयों में विशेष व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।
24. निरन्तर स्पर्श किये जाने वाले प्वाइंट्स (दरवाजे के हैण्डिल/कुण्डी, लिफ्ट के बटन, रेलिंग, बेन्चेस, बाथरूम के फिटिंग्स इत्यादि) सार्वजनिक रूप से उपयोग किये जाने वाले स्थानों एवं दुकानों, लिफ्ट, एस्केलेटर्स आदि का नियमित निःसंक्रमण (01 प्रतिशत सोडियम हाइड्रोक्लोराइट का प्रयोग करके) किया जाना अनिवार्य होगा।
25. आगन्तुकों और कर्मियों/स्टाफ द्वारा प्रयोग किये गये फेस-कवर/मास्क/ग्लव्स आदि का उचित निक्षेपण  Disposal      सुनिश्चित किया जाएगा।
26. समस्त शौचालयों आदि की गहन सफाई नियमित अन्तराल में की जाएगी।
27. माॅल के फूड-कोर्ट में निम्नवत व्यवस्था सुनिश्चित की जाएः-
A) भीड़/लाइनों ( Queue    ) का समुचित प्रबन्धन करते समय सोशल-डिस्टेन्सिंग का कड़ाई से अनुपालन करना।
(B) फूड-कोर्ट एवं रेस्टोरेन्ट्स में कुल सीटिंग क्षमता के 50 प्रतिशत से अधिक व्यक्तियों को बैठने की अनुमति नही होगी।
(C) फूड-कोर्ट के स्टाफ/वेटर्स आदि को मास्क और ग्लव्स पहनने के साथ-साथ बचाव के दूसरे तरीकों को भी अपना अनिवार्य होगा।
(D) ग्राहकों को बैठाने की व्यवस्था सोशल-डिस्टेन्सिंग के मानकों के अनुसार होगी।
(E) खाने के आर्डर देने में/भुगतान के समय सम्पर्क-विहीन  contactless    ) प्रक्रिया, कैशलेस पेमेन्ट/ई-वालेट आदि अपनाई जाए।
f     ग्राहक के टेबल छोड़ते ही प्रत्येक बार टेबल को सैनिटाइज किया जाएगा।
( g    ) किचेन के अन्दर स्टाफ द्वारा सोशल-डिस्टेन्सिंग का पालन एवं किचेन-एरिया की नियमित अन्तराल पर सफाई एवं सैनिटाइजेशन किया जायेगा।
28. माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट में गेमिंग जोन एवं बच्चों के खेलने के स्थान (Children Play Areas    ) बन्द रहेगें।
29. माॅल के अन्दर स्थित सिनेमा-हाल बन्द रहेगें।

होटल के सम्बन्ध मेंः-

1. होटल के रिसेप्शन पर अतिथियों के पहचान-पत्र के साथ विस्तृत जानकारी (Travel History, Medical Condition etc    ) और स्व-घोषणा पत्र भी लिया जाए।
2. सभी माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट में भुगतान हेतु सम्पर्क-विहीन प्रक्रिया यथा  QR-Code, Online Forms    जैसे ई-वालेट आदि को अपनाना अनिवार्य होगा।
3. होटल मे अतिथियों के सामान आदि को उनके कमरों में भेजने से पूर्व कीटाणु रहित करना आवश्यक होगा।
4. होटल के अतिथियों को ऐसे क्षेत्र जो कन्टेनमेन्ट जोन में पड़ते हो, में न जाने हेतु सूचित कर दिया जाएं।
5. होटल को अपने स्टाफ के साथ-साथ अतिथियों को भी उचित व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण जैसे फेस-कवर, फेस-मास्क, ग्लव्स और हैण्ड-सेनेटाइजर आदि उलब्ध कराने होंगे।
6. होटल के डाइनिंग के स्थान पर रूम-सर्विस को बढ़ावा दिया जाएगा एवं रूम के दरवाजे पर ही फूड-आइटम के पैकेट रख दिए जाएगें उसे सीधे अतिथि के हाथों में नही दिया जाएगा। होम डिलेवरी करने से पूर्व डिलेवरी स्टाफ की होटल प्राधिकारी (Hotel Authorities    ) द्वारा थर्मल-स्क्रीनिंग की जाएगी।
7. होटल के अतिथि एवं रूम-सर्विस/इन हाउस स्टाफ के मध्य सम्पर्क एवं संवाद सोशल-डिस्टेन्सिंग रखते हुए इन्टरकाम/मोबाइल फोन द्वारा ही किया जाएगा।

रेस्टोरेन्ट के सम्बन्ध मेंः-

1. रेस्टोरेन्ट के अन्दर बैठने की व्यवस्था इस प्रकार की जाए कि उचित सोशल-डिस्टेन्सिंग का पालन हो।
2. डिस्पोजब्ल मेन्यू का प्रयोग किया जायेगा।
3. कपड़े के नैपकीन के स्थान पर अच्छी गुणवत्ता के पेपर नैपकीन का प्रयोग किया जाएगा।
4. सम्पर्क-विहीन ( contactless    ) प्रक्रिया यथा डिजिटल पेमेन्ट जैसे ई-वालेट आदि को अपनाना अनिवार्य होगा।
5. बुफे सेवा में सोशल-डिस्टेन्सिंग के मानकों का पालन किया जाएगा।
6. रेस्टोरेन्ट के अन्दर बैठने की व्यवस्था इस प्रकार की जाए कि उचित सोशल-डिस्टेन्सिंग का पालन हो। सीटिंग क्षमता के 50 प्रतिशत से अधिक को बैठाने की अनुमति नही होगी।
7. रेस्टोरेन्ट में डिस्पोजब्ल मेन्यू का प्रयोग किया जायेगा।
8. रेस्टोरेन्ट में कपड़े के नैपकीन के स्थान पर अच्छी गुणवत्ता के पेपर नैपकीन का प्रयोग किया जाएगा।
9. रेस्टोरेन्ट के बुफे व्यवस्था में सोशल-डिस्टेन्सिंग के मानकों का पालन किया जाएगा।

माॅल, होटल एवं रेस्टोरेन्ट परिसर के अन्दर संदिग्ध अथवा पुष्ट केस प्राप्त होने पर निम्नलिखित कार्यवाही की जाएगीः-

1. बीमार व्यक्ति को ऐसे स्थान पर रखा जाए जिससे कि वह अन्य व्यक्तियों से बिल्कुल अलग (प्ेवसंजम) हो जाए।
2. जब तक उसे चिकित्सक द्वारा परीक्षण न कर लिया जाए तब तक उसके द्वारा पूरे समय तक फेस-कवर/मास्क का प्रयोग किया जाएगा।
3. तुरन्त निकटतम अस्पताल/क्लीनिक अथवा जिला स्वास्थ्य हेल्प लाइन को सूचित किया जाए।
4. नामित स्वास्थ्य प्राधिकारी (कपेजतपबज त्त्ज्ध्जतमंजपदह चीलेपबपंद) द्वारा मरीज और उसके सम्पर्कों आदि के सम्बन्ध में संक्रमण के जोखिम का मूल्याकंन किया जाएगा, तद्नुसार कार्यवाही की जाएगी।
5. यदि व्यक्ति पाॅजिटिव पाया जाए तो परिसर को पूर्ण रूप से कीटाणु-रहित किया जाए।

धार्मिक स्थलों को खोले जाने के सम्बन्ध में जो प्रतिबन्ध उल्लिखित किए गये हैं, उनका अनुपालन सम्बन्धित धार्मिक स्थल के धर्म गुरू/धर्म स्थल प्रशासन द्वारा सुनिश्चित कराया जाएगा। इसी प्रकार शापिंग माल्स/होटल्स/रेस्टोरेंट के विषय में प्रतिबन्धों का अनुपालन उनके वूदमतद्वारा सुनिश्चित कराया जाएगा।
जनपद में घोषित कन्टेनमेन्ट जोन/हाट स्पाट क्षेत्र में पूर्व से लागू प्रतिबन्ध यथावत् रहेंगे एवं भविष्य में भी उप जिलाधिकारी स्तर से कन्टेनमेन्ट जोन/हाट स्पाट क्षेत्र घोषित किये जा सकेंगे, जिसमें कन्टेनमेन्ट जोन से सम्बन्धित शर्तें प्रभावी रहेंगी।
लाॅकडाउन के दिशा निर्देशों के उल्लंघन करने पर किसी व्यक्ति के विरूद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम, 2005 की धारा-51 से 60 तथा भा0द0वि0 की धारा-188 में दिये गये प्रावधानों के अन्तर्गत् कार्यवाही की जाएगी।
उपरोक्त आदेश जनपद श्रावस्ती की सीमा में रहने वाले तथा प्रवेश करने वाले व्यक्तियों पर आदेश पारित होने के दिनांक 02 जुलाई, 2020 से 31 जुलाई, 2020 तक प्रभावी रहेगा। उपरोक्त आदेश तुरन्त प्रभावी किया जाना आवश्यक है तथा सभी पक्षों को सुना जाना संभव नहीं है। अतएव उक्त आदेश एकपक्षीय रूप से पारित किये जाते हैं।
उक्त आदेश आज दिनांक 02-07-2020 को मेरे हस्ताक्षर एवं न्यायालय की मुद्रा के अधीन निर्गत किया गया।
( योगानन्द पाण्डेय )
अपरजिला मजिस्टेªट,
श्रावस्ती

(टॉप वन इंडिया न्यूज़ चैनल)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2021 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:+91 7080822042
Translate »