Top1 india news

No. 1 News Portal of India

बुलडोजर और लाउडस्पीकर के बाद अब मुख्यमंत्री के इस मॉडल की हो रही है चर्चा

1 min read

रिपोर्ट – सद्दाम हुसैन जिला रिपोर्टर देवरिया

    देवरिया: (उ0प्र0) देवरिया उ0प्र0 मे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपील पर इस बार पूरे प्रदेश में कहीं भी यातायात बाधित कर ईद की नमाज़ नहीं अदा की गई. प्रदेश के सभी जिलों में उल्लास के साथ त्योहार मनाए जाने की सूचना है l             ईद-उल-फितर के दिन राजस्थान के जोधपुर में सांप्रदायिक झगड़ा हो गया. दोनों तरफ से लोग एक दूसरे को मरने मारने सड़कों पर उतर आए पर उत्तर प्रदेश ने एक नया इतिहास रचा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपील पर इस बार पूरे प्रदेश में कहीं भी यातायात बाधित कर सड़कों पर ईद की नमाज़ नहीं अदा की गई लिए

मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी सीएम के अपील का समर्थन किया था. नतीजा ये रहा कि ईद की नमाज़ ईदगाह या फिर अन्य तयशुदा पारंपरिक स्थान पर ही हुई. हापुड़, गाजियाबाद, नोएडा, सहारनपुर, लखनऊ समेत कई ज़िलों में जहां मस्जिद और ईदगाहों में जगह कम थी वहां लोगों ने अलग-अलग शिफ्ट में नमाज पढ़ी.

सड़कों पर नहीं पढ़ी गई ईद की नमाज

पिछले सालों तक जहां 50 हजार से 01 लाख लोग सड़कों और सार्वजनिक जगहों पर नमाज पढ़ते थे तो वहां प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि ईद की नमाज सड़कों पर नहीं पढ़ी गई. इससे पहले अलविदा की नमाज़ के समय भी ऐसी ही अभूतपूर्व स्थिति देखी गई थी, जब मुख्यमंत्री की अपील पर लोगों ने मस्जिदों में ही नमाज अदा की थी l

यही नहीं ईद-उल-फितर, अक्षय तृतीया और परशुराम जयंती के एक ही दिन होने से यूपी में जताई जा रही विवाद की आशंका भी निर्मूल साबित हुई. लोगों ने ईदगाहों में नमाज पढ़ी तो परशुराम जयंती पर विविध संगठनों ने शांतिपूर्ण आयोजन भी किए. प्रदेश के सभी 75 जिलों से हर्ष और उल्लास के साथ त्योहार मनाए जाने की सूचना है. वहीं राजस्थान के जोधपुर सहित देश के कुछ प्रांतों में ईद पर दो समुदायों के बीच हिंसा और तनाव की खबरें सामने आई हैं.

यूपी में 33 हजार जगहों पर अता की गई नमाज

बीते दिनों, सीएम योगी ने अधिकारियों को ईद, अक्षय तृतीया और परशुराम जयंती के एक ही दिन होने पर पुलिस/प्रशासन को अतिरिक्त संवेदनशील रहने को कहा था. साथ ही, सड़क पर यातायात रोक कर नमाज पढ़ने से पब्लिक को होने वाली परेशानी का हवाला देते हुए धर्मगुरुओं से संवाद बनाने के निर्देश भी दिए थे l

मुख्यमंत्री के प्रयास का सकारात्मक असर देखने को मिला और कहीं भी सड़क पर नमाज नहीं हुई. सीएम के निर्देश पर एहतियातन यूपी पुलिस ने सुरक्षा चाक चौबंद की थी. अनुमान के मुताबिक इस साल यूपी में करीब 33 हजार जगहों पर नमाज अदा की गई, इसमें 2,800 स्थानों को चिन्हित कर सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए थे l

हो रही है योगी मॉडल की तारीफ

बुलडोजर मॉडल और धार्मिक स्थलों पर लगे अनावश्यक लाउडस्पीकर की समस्या के सौहार्दपूर्ण निदान के बाद अब सड़क पर नमाज़ पढ़ने की समस्या का आम सहमति से हल पेश करने वाले योगी आदित्यनाथ के लॉ एंड ऑर्डर मॉडल की सराहना हो रही है l

इन दिनों देश के विभिन्न प्रान्तों में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद के बीच यूपी में सीएम योगी ने मंदिर-मस्जिद सहित सभी धर्मस्थलों पर तय मानकों के मुताबिक लाउडस्पीकर को कम आवाज में बजाने को कहा. मथुरा में श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर और गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर ने आगे बढ़कर इस आह्वान का समर्थन करते हुए लाउडस्पीकर की आवाज को कम किया या फिर उतार दिया l

आम हो चले हैं यूपी में लाउडस्पीकर उतारने के दृश्य

स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों ने भी सभी धर्मगुरुओं से संवाद किया और इस तरह मस्जिदों से भी अनावश्यक लगे लाउडस्पीकर उतरने लगे. मंदिर हो या कि मस्जिद, नियम विरुद्ध लगे लाउडस्पीकर उतरने के दॄश्य यूपी में आम हो चले हैं. सबसे खास बात कि यह पूरी प्रक्रिया आम सहमति से हो रही है, कहीं से भी हिंसा, विवाद जैसी अप्रिय घटनाओं की कोई खबर नहीं आई. रामनवमी के अवसर पर शोभायात्रा निकली, तो दिल्ली समेत देश के कई शहरों में सांप्रदायिक हिंसा हुई, पर उत्तर प्रदेश में 800 से अधिक शोभायात्राएं निकलीं और विवाद की एक भी घटना नहीं हुई l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2021 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:+91 7080822042
Translate »