September 25, 2021

Top1 india news

No. 1 News Portal of India

वापस लौट रहे भारतीयों को रोकने लगे तालिबानी बोले आप यहीं रहें कोई दिक्कत नहीं होगी

1 min read

रिपोर्टर – सद्दाम हुसैन

देवरिया: भारत मे और (उ0प्र0) के देवरिया जिले के तालिबान मे फसे हुये लोग सुरक्षित अपने वतन वापस आये अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां अफरा-तफरी का माहौल है। प्रवासी लोग वहां से जल्द से जल्द अपने वतन लौट जाना चाहते हैं। उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के रहने वाले नीतीश कुमार भी हाल ही में अफगानिस्तान से वापस लौटे हैं। नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से बातचीत में उन्होंने अफगानिस्तान के हालात के बारे में बताया। नीतीश ने कहा कि तालिबानी अफगानिस्तान से अपने देश लौट रहे भारतीयों को रोकना चाहते थे। उनका कहना था कि भारत उनका (तालिबान का) दोस्त है। उनकी दुश्मनी सिर्फ पाकिस्तान से है।
नीतीश ने बताया अफगानिस्तान में तालिबानी लड़ाकों ने रास्ते में हमारी बस को रोक लिया और कहा कि आप लोग यहीं रह कर काम करो। आप लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी। भारतीय हमारे भाई जैसे हैं। हमारे देश से भारत सरकार का व्यवहार दोस्तों जैसा रहा है। हमारी दुश्मनी तो पाकिस्तानियों से है।’ नीतीश ने आगे बताया, ‘इसके बाद हम लोगों ने तालिबानियों से कहा कि जब माहौल ठीक होगा तो हम लोग फिर वापस आएंगे। यह सुनकर तालिबानी लड़ाकों ने हम लोगों को सुरक्षित एयरपोर्ट तक पहुंचाया और वहां नाश्ता भी कराया।’
देवरिया जिले के भलुअनी गांव के रहने वाले नीतीश कुमार बीते जून माह में नौकरी करने अफगानिस्तान गए थे, जहां वह काबुल एयरपोर्ट से 8 किलोमीटर दूर न्यू बगराम रोड पर खान स्टील कंपनी में नौकरी करते थे। 21 अगस्त को नीतीश 168 भारतीयों के साथ वायुसेना के विमान से अपने देश वापस लौटे। वहां से बस से सोमवार को नीतीश अपने घर पहुंचे।
अफगानिस्तान में बना है खौफ और भगदड़ का माहौल
नीतीश ने एनबीटी ऑनलाइन को बताया कि अफगानिस्तान पर तालिबानियों के कब्जे के बाद वहां खौफ और भगदड़ का माहौल है। हमारी कंपनी में काम करने वाले 28 भारतीय थे। हम सभी कंपनी के अंदर ही रहते थे। भारतीय दूतावास से सम्पर्क करने के बाद 19 अगस्त की रात में करीब 11 बजे हम सभी 28 भारतीय चार बसों में सवार होकर काबुल एयरपोर्ट के लिए निकले। जगह-जगह भीड़ और जाम के चलते 8 किलोमीटर की दूरी तय करने में हम लोगों को 3 घंटे लग गए। उन्होंने बताया कि रास्ते में आधा दर्जन हथियारबंद तालिबानी लड़ाके हमारी बस को रोककर हम लोगों से पूछताछ करने लगे। वे कह रहे थे कि भारतीय यहीं रहकर काम करें। उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी। हमने बताया कि हम लोग भारतीय हैं और अपने देश लौटने के लिए हम सभी काबुल एयरपोर्ट पर जा रहे हैं। यह सुनकर तालिबानियों ने जोर देकर कहा कि आप लोग यहीं रहकर काम करो वापस मत जाओ। आप लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी। हम लोगों ने कहा कि जब माहौल ठीक होगा तो हम सभी लोग वापस लौट आएंगे।168 भारतीय लौटे स्वदेश
नीतीश ने बताया कि हमारा जवाब सुनकर तालिबानियों ने हम सभी को सुरक्षित एयरपोर्ट तक पहुंचाया। रास्ते में तालिबानी लड़ाके लगातार कह रहे थे कि आप लोग अफगानिस्तान छोड़कर ना जाएं क्योंकि भारत उनका मित्र देश है। अगर उनका कोई दुश्मन है तो वह पाकिस्तान है। काबुल एयरपोर्ट के पास उन लोगों ने नाश्ता भी कराया। वायुसेना के विमान से 168 भारतीयों के साथ स्वदेश लौटे हैं। नीतीश कुमार ने बताया कि 19 अगस्त की देर रात हम लोग काबुल एयरपोर्ट पहुंचे। जहां लम्बी जांच पड़ताल के बाद अमेरिकी सेना ने अन्दर जाने दिया।
उन्होंने बताया कि उस समय कोई फ्लाईट न होने के चलते हम सभी एक गेस्ट हाउस में रुके। 20 अगस्त की शाम लगभग 5 बजे हम लोग फिर एयरपोर्ट पहुंचे। जहां हमारे दस्तावेजों की दोबारा जांच की गई । 21 अगस्त की भोर में तकरीबन साढ़े चार बजे हम लोग भारतीय वायुसेना के विमान सी-17 ग्लोबमास्टर प्लेन पर बैठे और दोहा होते हुए लगभग साढ़े 9 बजे गाजियाबाद के हिंडन एयरपोर्ट पहुंचे। उस जहाज में 168 भारतीय नागरिक सवार थे।
‘भारत सरकार को थैंक्यू’
गाजियाबाद एयरपोर्ट पर तमाम दस्तावेजों की जांच करने के बाद इंडियन एयर फोर्स ने हमें नाश्ता कराया। वहां थोड़ी देर आराम करने के बाद एयर फोर्स के बस से दिल्ली के आनंद बिहार बस स्टेशन पहुंचे। वहां से बस पकड़ कर सोमवार को वह अपने घर पहुंचे। नीतीश ने सकुशल घर वापसी के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2021 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:+91 7080822042
Translate »